शब्द दूत

व्यवस्था सड़ी हो तो भ्रष्टाचार पनपता है , अवस्था उघडी हो तो अनाचार पनपता है --- विनोद भगत

9 Posts

13 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 17843 postid : 713193

पेट की आग

Posted On: 6 Mar, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

पेट में उनके आग होती है ,
जिनके चूल्हे बुझे होते हैं ,
बुझे चूल्हे की आग पेट से ,
जब बाहर निकलती है ,
तब विकराल हो जाती है ,
चूल्हे की आग से ज्यादा ,
पेट की आग तेजी से भड़कती है ,
इस पेट की आग को और मत भड़काओ ,
पेट की भड़की आग सब कुछ भस्म कर देगी ,
पेट सबके पास होता है ,
पेट में चूल्हा जब जलेगा ,
हर घर से उठेगा धुंए का गुबार ,
उस गुबार में कुछ नजर नहीं आयेगा ,
चारो और गुबार ही गुबार ,
धुएं के इस गुबार में ,
सभ्यता का खेल ख़त्म हो जाएगा ,
तब संघर्ष, भीषण संघर्ष होगा ,
सभ्यताएं और मानवताएं तब सिसकेंगी ,
पेट में आग मत भड़काओ ,
चूल्हों की आग जलाओ ,
चूल्हों की आग जलाओ ,
चूल्हों को मत बुझने दो ,
चूल्हों को मत बुझने दो ,
———-विनोद भगत

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran