शब्द दूत

व्यवस्था सड़ी हो तो भ्रष्टाचार पनपता है , अवस्था उघडी हो तो अनाचार पनपता है --- विनोद भगत

9 Posts

13 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 17843 postid : 713402

प्रतिभा तो घर में ही रहेगी ,

Posted On: 6 Mar, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भई वाह ,
क्या खूब लिखते हो ,
आम आदमी की पीड़ा पर कलम चलाते हो ,
पहनावे से तो तुम ऐसे ही लगते हो ,
क्या शानदार रचना लिखते हो ,
मेरी प्रशंसा से क्यों सकुचाते हो ,
तुम्हें लिखना चाहिए , लगातार लिखो,
प्रतिभा छुपी नहीं रहनी चाहिए ,
उसे बाहर निकालो ,
अब उसने भी मुह खोला ,
देखिये बाबूजी ,
प्रतिभा तो घर में ही रहेगी ,
और आप पता नहीं क्या क्या अनाप शनाप बके जा रहे हैं ,
आप लोगो ने हमारी जेबें तक तो खाली करा ली ,
अब घरवाली को भी घर से निकालोगे ,
हाँ , लाओं, मेरे महीने के हिसाब का पर्चा तो दे दो ,
लाला गड़बड़ कर देगा ,
इस पर्चे को देख कर पता नहीं आप क्या बडबडा रहे हो ,
दाल , आटे का बढता भाव और सिलेंडर के दाम लिखे हैं इस पर ,
आप पता नहीं क्या समझ रहे हो ,
पप्पू की फीस और घर के राशन का हिसाब,
यह तो हम रोज़ ही लिखते पढते और समझने की कोशिश में हैं ,
पर अब तक नहीं समझे ,
आप समझे क्या ,
———–विनोद भगत

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran